सूचना मंत्री संदेश

हरियाणा साहित्य अकादमी व हरियाणा ग्रंथ अकादमी की वेबसाईट के शुभारम्भ पर मुझे हार्दिक प्रसन्नता है। प्रदेश के साहित्यिक व साहित्यिक परिवेश की समृद्धि में रचनाकारों के साथ-साथ प्रदेश की विभिन्न अकादमियों का भी महत्वपूर्ण योगदान है। प्रदेश में हिंदी, हरियाणवी व अंग्रेजी भाषा के विकास के लिए हरियाणा साहित्य अकादमी द्वारा अनेक योजनाएं चलाई जा रही हैं। उर्दू, संस्कृत व पंजाबी भाषाओं के साहित्य को संरक्षण व प्रोत्साहन के लिए प्रदेश में अलग से स्वतंत्र अकादमियां स्थापित की गई है। इसी प्रकार प्रदेश के गौरवशाली इतिहास व संस्कृति के संवर्धन के लिए हरियाणा इतिहास व संस्कृति अकादमी का गठन किया गया है। प्रदेश सरकार द्वारा सभी भाषाओं के साहित्य के प्रचार-प्रसार के लिए समान रूप से अनेक योजनाएं लागू की गई हैं।

अकादमी की वेबसाईट शुरू होने से जहां अकादमी की विभिन्न योजनाओं/गतिविधियों की जानकारी अधिक से अधिक लाभार्थी उठा सकेंगे, वहीं उच्च शिक्षा के क्षेत्र में अध्ययनरत विद्यार्थी हरियाणा ग्रंथ अकादमी के विश्वविद्यालय स्तरीय प्रकाशनों से लाभान्वित हो सकेंगे। मुझे पूर्ण विश्वास है कि अकादमी की वेबसाईट आरम्भ होने से प्रदेश के लेखकों व छात्रों को बहुत लाभ होगा।

 

                                                                                              

(पं. शिवचरण लाल शर्मा)

Content
पुस्तक श्रेणी
पुस्तक का नाम
लेखक
 
Content12
downloads